दाल और अनाज में नहीं लगेंगे कीड़े, अगर करेंगे ये एक काम!

दाल और अनाज में नहीं लगेंगे कीड़े, अगर करेंगे ये एक काम!
बारिश का मौसम बस बीता ही है. इस मौसम में नम वातावरण की वजह से कई बार खाने पीने की कई चीजें खराब हो जाती हैं और उनमें कीड़े (घुन) भी लग जाते हैं. कई बार जब इस मौसम में आपने बहुत दिनों बाद दाल या चावल का डिब्बा खोला होगा तो उसमें रेंगते कीड़ों और घुन को देखकर मन ही खराब हो गया होगा. हालांकि कुछ लोग इसपर ज्यादा ध्यान नहीं देते हैं और दाल को धोकर इस्तेमाल कर लेते हैं. लेकिन कई बार इससे गंभीर बीमारियां भी पैदा हो सकती हैं. बस थोड़े से पैसे बचाने के चक्कर में ऐसे अनाज का सेवन करने से बचें जिसे खाने से आपको अस्पताल के चक्कर लगाने पड़ सकते हैं. आइए जानते हैं कुछ ऐसे घरेलू उपाय जिन्हें अगर आप समय से अपना लें तो आप दाल और अनाजों को घुन लगने से बचा सकते हैं...

स्टोर करते समय रखें ध्यान:
अनाज और दालों को स्टोर करते वक्त आपको थोड़ा ध्यान देने की जरूरत है. जिस भी डिब्बे में दाल स्टोर करें उसे अच्छे से पोंछ लें ताकि उसमें नमी बाकी ना रहे. नमी के रहने पर इससे कीड़ों को पनपने के लिए उचित माहौल मिलता है. बारिश का मौसम शुरू होने से पहले ही अनाज और दालों में नीम की पत्तियां डाल दें. आप चाहें तो 'पारद टिकडी' भी अनाजों में डाल सकते हैं. ये दवा स्टोर किये गए खाद्य पदार्थों को कीड़ों से बचाती है.

इसे भी पढ़ें: वायु प्रदूषण से बढ़ रही लोगों में आत्महत्या की प्रवृत्तिआटे को ऐसे बचाएं:
आटे में कीड़े और घुन न लगें इसके लिए खड़ी लाल मिर्च और नमक के ढोके (साबुत नमक) आटे में डाल दें. ऐसा करने से आपका आटा कीड़ों से सुरक्षित रहेगा.

इन्हें भी जानें:
सूजी (रवा) को कीड़ों से बचाने के लिए सबसे अच्छा और आसान तरीका है कि इसे स्टोर करने से पहले कढ़ाई में सूखा ही भून लें. आप चाहें तो सूजी में 8 से 10 लौंग भी रख सकती हैं. ये भी सूजी को कीड़े से बचाएगा.

इसे भी पढ़ेंः  Diwali की शॉपिंग करें अपने Budget में, बेहद सस्ते में इन मार्केट से

शहद को खराब होने से बचाने के लिए इसमें आप 9 से लेकर 10 कालीमिर्च डाल दें. ऐसा करने से शहद खराब नहीं हॉग. वहीं चावल को घुन लगने से बचाने के लिए इसमें पुदीने की सूखी पत्तियां रख दें. इसकी तेज महक से कीड़े पनप नहीं पाएंगे.

 

(Disclaimer: This article is not written By 24Trends, Above article copied from News 18.)